gaya लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैंसभी दिखाएं
शिवबचन बाबू का चिंतन और चरित्र मानवतावादी था------ डॉक्टर मिश्र
सूर्यनारायण हीं प्राणियों के जीवन का सर्वोच्च स्रोत हैं---------डाॅ विवेकानंद मिश्र
पं.यदुनंदन शर्मा किसान मजदूरों के स्वाभिमान को जगाने वाले कर्मयोगी थे---------डॉक्टर विवेकानंद मिश्र
कांग्रेस से आचार्य कृष्णम का निष्कासन दुर्भाग्यपूर्ण------डाॅ विवेकानंद मिश्र
मानवीय मूल्यों के संरक्षिका थी सुनंदा मराठे --------- डॉ विवेकानंद मिश्र
PRAGYAN QUIZE CONTEST - 01 का पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित |
हमारा गणतंत्र मानवतावादी दर्शन के साथ आधुनिक विचारों से प्रेरित है---------- राजेश
काश! राष्ट्र ने नेताजी के सिद्धांत और विचार को क्रियान्वित किया होता--------- डॉ. विवेकानंद
कांग्रेस द्वारा किए गए अन्याय को छुपाने के लिए न्याय यात्रा उचित नहीं------------ मृदुला मिश्रा/कुमारी डिंपल
प्राण- प्रतिष्ठा का आमंत्रण अस्वीकार कर कांग्रेस नेतृत्व ने पूरी पार्टी को दांव पर लगा दिया---------- डॉ. मिश्र
ए वर्ष का उपहार -सन्धेय
महामना मालवीय जी एवं बाजपेयी जी का व्यक्तित्व कृतित्व वरेण्य और अनुकरणीय है :-डॉक्टर विवेकानंद मिश्र
देश में अल्पसंख्यक खतरे में नहीं अल्पसंख्यकों के नाम पर राजनीति करने वाले खतरे में ----- इरशाद आलम,तरन्नुम तारा
आतंकवाद जैसे गंभीर मुद्दों पर राजनीति उचित नहीं:-कुमारी अंबिका एवं गीता देवी
राजस्थान के मुख्यमंत्री के चयन पर राष्ट्रीय ब्राह्मण महासभा का सहर्ष धन्यवाद ज्ञापन
मानवाधिकार का हनन राष्ट्रीय विकास में बाधक:-डॉ.मिश्र
सामाजिक समस्याओं के निराकरण के लिए बुद्धिजीवी एक मंच पर आएँ:-ज्योति सिंह/तरन्नुम तारा
आयुर्वेद को राष्ट्रीय चिकित्सा पद्धति घोषित करने की जनता की मांग
एक दलित नेता के भरे सदन में अपमान पर सामाजिक न्याय के पुरोधा चुप क्यों ?
आतंकवाद का खुला समर्थन कर लोकतंत्र की रक्षा की बात बेमानी-----------डॉक्टर विवेकानंद मिश्र |